Homeशिक्षाओम का नियम क्या है | Ohms Law in Hindi

ओम का नियम क्या है | Ohms Law in Hindi


Ohms Law – ओम का नियम की सर्वप्रथम खोज जर्मनी भौतिकविद जार्ज साईमन ओम ने किया था, जिस कारण उनके नाम पर इस नियम का नाम ओम का नियम, Ohms Law, Ohm’s Law पड़ा. तो चलिए इस पोस्ट में ओम का नियम क्या है, What is Ohms Law in Hindi, ओम के नियम की परिभाषा को जानते है.

ओम का नियम क्या है

Ohms Law in Hindi

ओम का नियम को भौतिक नियमो में महत्वपूर्ण नियम माना जाता है, क्युकी यह वस्तुओ के प्रतिरोधकता को दर्शाता है, जिसे ओमीय प्रतिरोध कहते है.

ओम का नियम विभवान्तर, धारा और प्रतिरोध के बीच के सम्बन्ध को दर्शाता है, जिसका उपयोग इलेक्ट्रिक के क्षेत्र में किया जाता है.

ओम का नियम का सूत्र

Ohms Law formula in Hindi

Ohms Law in Hindiओम का नियम का सूत्र है – V = IR

V – (Voltage – वोल्टेज – विभवान्तर) जिसकी इकाई यानि मात्रा Volt (V) है.

I – (Current – कर्रेंट – धारा) जिसकी इकाई यानि मात्रा Ampere (A) है.

R – (Resistance – रेजिस्टेंस –प्रतिरोध) जिसकी इकाई यानि मात्रा Ohm (Ω) है.

तो इस तरह ओम के नियम से वोल्टेज, धारा और प्रतिरोध का मान पता कर सकते है, जो इस प्रकार है –

यदि आपको विभवान्तर यानि Voltage का मान पता करना है तो इसके लिए Formula:- V=I×R है.

यदि आपको धारा यानि Current का मान पता करना है तो तो इसके लिए Formula:- I=V/R है.

यदि आपको प्रतिरोध यानि Resistance का मान पता करना है तो तो इसके लिए Formula:- R=V/I है.

नोट – और ये सभी नियम तभी लागू होता है, जब इनका मान स्थिर होता है. जिसे ओम के नियम का प्रतिपादन कहते है.

ओम के नियम का उपयोग

Ohms Law formula Use in Hindi

तो इस तरह ओम के नियम के जरिये वोल्टेज, धारा मान और विभवान्तर के मापने में किया जाता है, तो ओम के इस नियम से यह भी पता चलता है की यदि वोल्टेज को दो गुणा कर दिया जाय, तो निश्चित ही ओम के नियम के अनुसार करंट यानी धारा भी दोगुना बढ़ जायेगा. परन्तु प्रतिरोध का मान वही रहेगा.

तो ओम का नियम विद्युत् धारा, चालक के प्रतिरोध और वोल्टेज के मध्य सम्बन्ध को दिखाता है. जिसकी सहायता से आप करंट और वोल्टेज के उपयोग की नियंत्रित कर सकते है.

और अधिक जानने के लिए विजिट करे :- Wikipedia पर – ओम का नियम

इसे भी जाने :-

4.9/5 - (91 votes)

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Career

Most Popular

Categories

Jobs

CDO Officer Kya Hai CDO Officer Kaise Bane

सीडीओ ऑफिसर क्या है CDO Kaise Bane?

0
आज की इस पोस्ट में हम आपको बताने वाले है की CDO Kya Hai (What is CDO in Hindi), CDO Kaise Bane (How To...
M.Phil Courss Kya Hai M.Phil Course Kaise Kare

M. Phil Course कैसे करे | एम फिल कोर्स करने की पूरी जानकारी

0
इस पोस्ट में आज हम आपको बताने जा रहे हैं M.Phil कैसे करें और M.Phil करने के क्या-क्या लाभ होते हैं, M.Phil करने के...
Diploma in Ayurvedic pharmacy in hindi Diploma In Ayurvedic Pharmacy Kaise Kare

Diploma In Ayurvedic Pharmacy Kaise Kare और Eligibility For Diploma In Ayurvedic Pharmacy In...

2
आज इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको जानकारी देंगे कि Diploma in Ayurvedic pharmacy Kaise Kare तथा Ayurvedic Pharmacy Kya Hai तथा Diploma...
CSC Kya Hai CSC Center Kaise Khole

सीएससी क्या है | अपना सीएससी सेंटर कैसे खोले

0
आज हम बात करने वाले हैं CSC Center के बारे में कि CSC Kya Hai, CSC Center Kaise Khole, CSC Registration Online Form इन...
SSC Exam Ki Taiyari Kaise Kare- How To Prepare For SSC Exam

एसएससी एक्जाम की तैयारी करे

0
आपको पता ही है, की आज के समय में सरकारी नौकरी मेरी पाना कितना कठिन है, एक समय तो ऐसा भी था जब हमें...
VDO Officer Kya Hota Hai VDO Officer Kaise Bane

ग्राम विकास अधिकारी कैसे बने? | VDO Officer Ki Taiyari Kaise Kare

0
आज हम इस पोस्ट मे आपको बताने वाले हैं, की VDO Officer Kya Hota Hai, (What Is VDO Officer In Hindi), VDO Ki Full...
Anganwadi Worker Kaise Bane Eligibility For Anganwadi Worker In Hindi

आँगनवाड़ी वर्कर कैसे बने | आँगनवाड़ी वर्कर बनने के लिए योग्यता और इसकी तैयारी

0
आज हम आपको बताने वाले हैं, कि Anganwadi Worker Kaise Bane, Anganwadi Me Kam Kaise Kare, Anganwadi Kya Hai, Qualification For Anganwadi Worker, Anganwadi...
M pharma Kya Hai M pharma Kaise Kare

M Pharma क्या है | M Pharma कैसे कर सकते है | M.Pharma के...

0
आज के इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको जानकारी देंगे कि M.Pharma Kya Hai तथा  M.Pharma Course Kaise Kare और  M.Pharma Course Karne Ke...
close button