HomeChemistryधातुओं के रासायनिक गुण | Chemical properties of metals in Hindi

धातुओं के रासायनिक गुण | Chemical properties of metals in Hindi

आज के इस पोस्ट में हम जानेंगे धातुओं के रासायनिक गुण, धातुओं की सक्रियता श्रेणी के बारे मे, अगर आपको धातुओं के रासायनिक गुण Chemical properties of metals in Hindi के बारे में ज्यादा जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो इस पोस्ट को पूरा पढे, तो चलिये अब धातुओं के रासायनिक गुण के बारे मे जानते है

धातुओं के रासायनिक गुण क्या है

Chemical properties of metals in Hindi

Chemical properties of metals in Hindiरासायनिक गुणों का मतलब है की जब किसी धातु को किसी दुसरे तत्व के साथ अभिकिया करायी जाती है तब धातु के गुण मे क्या परिवर्तन होता है| इसे धातुओं के रासायनिक गुण कहते है

धातुओं के रासायनिक गुण कौन कौन से है

What are the chemical properties of metals in Hindi

तो चलिए धातुओं के रासायनिक गुण कौन कौन से है, जानते है

  1. लगभग सभी धातुएं ऑक्सीजन के साथ क्रिया करके संगत धातु ऑक्साइड बनाती हैं| धातु ऑक्साइड क्षारकीय होती है ऐलुमिनियम आक्साइड, जिंक ऑक्साइड  जैसे कुछ धातु ऑक्साइड अम्लीय तथा क्षारकीय दोनों प्रकार का व्यवहार प्रदर्शित करते हैं |
  2. ऐसे धातु ऑक्साइड जो अम्ल तथा क्षारक दोनों से अभिक्रिया करके लवण तथा जल प्रदान करते हैं, उभयधर्मी ऑक्साइड कहलाते हैं |
  3. पोटेशियम तथा सोडियम जैसी कुछ धातुएँ वायु से इतनी तेजी से अभिक्रिया करती है कि खुले में रखने पर ये तुरंत ही आग पकड़ लेती है अतः सुरक्षित रखने तथा आकस्मिक आग को रोकने के लिए इन्हें केरोसिन तेल में डुबोकर रखा जाता है |
  4. जल के साथ अभिक्रिया करके धातुएँ हाइड्रोजन गैस तथा धातु ऑक्साइड उत्पन्न करती हैं| जल में विलेय धातु ऑक्साइड जल में घुलकर धातु हाइड्रोक्साइड प्रदान करते हैं| लेकिन सभी धातुएं जल के साथ अभिक्रिया नहीं करती हैं|
  5. धातुएँ अम्ल के साथ अभिक्रिया करके संगत लवण तथा हाइड्रोजन गैस प्रदान करती हैं |

धातुओं की सक्रियता श्रेणी

Activity Series of Metals in Hindi

  • धातुओं को उनकी अभिक्रियाशीलता के घटते क्रम में रखने पर जो श्रेणी प्राप्त होती है, वह सक्रियता श्रेणी कहलाती है| हाइड्रोजन से ऊपर स्थित धातुएँ तनु अम्लों से हाइड्रोजन विस्थापित कर देती हैं एक अधिक अभिक्रियाशील धातु, कम अभिक्रियाशील धातु को उसके लवण के विलयन से विस्थापित कर देती है |
  • चांदी एवं सोना धातु अत्यंत अधिक ताप पर भी ऑक्सीजन से क्रिया नहीं करती हैं यह धातुएं जल एवं उनके साथ भी अभिक्रिया नहीं करती हैं |
  • ऐक्वा-रेजिया (रॉयल जल का लैटिन शब्द) या अम्लराज 3:1 के अनुपात में सांद्र हाइड्रोक्लोरिक अम्ल एवं सांद्र नाइट्रिक अम्ल का ताजा मिश्रण होता है सोने को गला सकता है यह सोने यह प्रबल संक्षारक होता है |
  • टाइटेनियम को भविष्य की धातु कहा जाता है |

धातुओं की सक्रियता श्रेणी

तत्वों के संकेत तत्वों के नाम
K पोटेशियम
Na सोडियम
Ca कैल्शियम
Mg मैग्नीशियम
Al एलुमिनियम
Zn जिंक
Fe आयरन
Pb लेड (सीसा)
H हाइड्रोजन
Cu कॉपर (तांबा)
Hg मरकरी (पारा)
Ag चांदी (सिल्वर)
Au सोना (गोल्ड)

कुछ धातुएं ज्वाला में गर्म करने पर ज्वाला को विशिष्ट रंग प्रदान करती हैं इनका उपयोग आतिशबाजी में रंग उत्पन्न करने के लिए किया जाता है |

धातु ज्वाला का रंग
Li लाल
Na पीला
K लाइलैक
Rb बैंगनी
Cs नीला
Ca ईट जैसा लाल
Ba सेब जैसा हरा
Sr सुनहरा लाल रंग

धातुओं के रासायनिक गुण क्या है इनसे जुड़े कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न और इनके उत्तर (FAQ)

What are the chemical properties of metals, some important questions related to them and their answers (FAQs)

प्रश्न :- धातुओं के गुण कितने प्रकार के होते हैं?

उत्तर :- धातु ऊष्मा तथा विद्युत का सुचालक होते है, धातु आघातवर्धनीय होते हैं, अर्थात इन्हे पीट कर इनकी पतली चादर बनाई जा सकती है. धातुओं में तन्यता के गुण दिखाते हैं. अर्थात इनसे तार बनाए जा सकते हैं

प्रश्न :- क्षार धातुओं के सामान्य रासायनिक गुण क्या है?

उत्तर :- धातुएँ विभिन्न प्रकार की अधातुओं से प्रतिक्रिया कर यौगिकों का निर्माण करती हैं। अधिक अभिक्रियाशील धातुएँ साधारण ताप पर भी जल से क्रिया करती हैं। परंतु कम अभिक्रियाशील धातुएं जल या भाप के साथ गर्म किये जाने पर ही अभिक्रिया करती हैं। धातुएँ अम्ल व क्षार से भी अभिक्रिया करती हैं।

प्रश्न :- धातु और अधातु के भौतिक गुण क्या है?

उत्तर :- धातुएँ आघातवर्ध्य तथा तन्य होती है। यह समानता कठोर होती है। (सोडियम तथा पोटेशियम को छोड़ कर), जबकि अधातुएं भंगुर होती है। यह अपेक्षाकृत गर्म होती है। (हीरे (C) को छोड़कर) और अपेक्षाकृत इनके क्वथनांक व गलनांक का न्यून होते हैं ।

प्रश्न :- धातु के भौतिक गुण क्या है?

उत्तर :- धातुएँ अघातवर्ध्य (Malleable) होती हैं। अर्थात इन्हें हथौड़े से पीट-पीट कर चादर के रूप में भी परिवर्तित किया जा सकता है। सोना व चाँदी सर्वाधिक अघातवर्ध्य होते हैं। 1 ग्राम चाँदी से 2 मीटर लंबा तार खींचा जा सकता है।

प्रश्न :- धातु किसे कहते हैं और कितने प्रकार के होते हैं?

उत्तर :- वे तत्व जो इलेक्ट्रॉन्स को त्यागकर धनायन प्राप्त करते हैं, धातु कहलाते हैं।

प्रश्न :- कुल कितने धातु है?

उत्तर :- प्राचीनकाल में सिर्फ आठ धातुएँ ही ज्ञात थीं परंतु वर्तमान में ज्ञात धातुओं की कुल संख्या 90 है।

प्रश्न :- अधातु की कुल संख्या कितनी होती है?

उत्तर :- आवर्त सारणी के केवल 18 तत्व अधातु की श्रेणी में गिने जाते हैं

तो आपको यह पोस्ट धातुओं के रासायनिक गुण धातुओं की सक्रियता श्रेणी | Chemical properties of metals in Hindi कैसा लगा कमेंट मे जरूर बताए और इस पोस्ट को लोगो के साथ शेयर भी जरूर करे,

इन पोस्ट को भी पढे :-

5/5 - (14 votes)
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

close button