HomePhysicsकेशिकात्व क्या है इसकी उदाहरण सहित परिभाषा | Capillarity in Hindi

केशिकात्व क्या है इसकी उदाहरण सहित परिभाषा | Capillarity in Hindi

इस पोस्ट में हम जानेंगे केशनली अथवा केशिकात्व क्या है Capillarity In Hindi के बारे मे, अगर आपको केशनली अथवा केशिकात्व क्या है इसकी उदाहरण सहित परिभाषा और Capillarity In Hindi के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो इस पोस्ट को पूरा पढे, तो चलिये अब केशनली अथवा केशिकात्व क्या है इसकी उदाहरण सहित परिभाषा के बारे मे जानते है

केशनली अथवा केशिकात्व क्या है

Capillarity in Hindi

Capillarity in Hindiकेशनली एक अत्यंत सूक्ष्म अनुप्रस्थ क्षेत्रफल वाली नली होती है जिसे जब किसी द्रव में डुबोया जाता है तो केशनली का तल कुछ ऊपर उठ जाता है या नीचे गिर जाता है, केशनली में तल का ऊपर उठना या गिरना, यह द्रव की प्रकृति पर निर्भर करता है जिसमे इसे डुबोया जा रहा है।

जब केशनली को को ऐसे द्रव में डुबोया जाए जो ठोस को भिगोता है तो केश नली में द्रव का तल या स्तर ऊपर उठ जाता है। और जब केशनली को ऐसे द्रव में डुबोया जाए जो ठोस को नही भिगोता है तो ऐसे द्रव में डुबोने पर केश नली में द्रव का तल निचे गिर जाता है।

केशिकात्व की परिभाषा

Definition of capillarity in Hindi

“केशनली में द्रव के तल या स्तर का ऊपर उठना या नीचे गिरने की प्रक्रिया को केशिकत्व या केशिकात्व कहा जाता है।”

साधारण शब्दो मे केशनली में द्रव के ऊपर चढ़ने अथवा नीचे उतरने की घटना को ‘केशिकत्व‘ कहते हैं। केशनली को जल से भरे बर्तन में रखते हैं तो जल ऊपर की ओर चढ़ता है और पारे से भरे बर्तन में रखते हैं तो पारा नीचे की ओर खिसकता है।

यदि केशनली की त्रिज्या r, द्रव का पृष्ठ तनाव T व द्रव घनत्व d हो, तो नली में चढे (या उतरे) द्रव की ऊँचाई ( या गहराई)

h = 2Tcosθ/rdg
जहाँ θ = द्रव स्पर्श कोण

इस सूत्र से स्पष्ट है कि नली जितनी पतली(r कम) होगी द्रव उतनी ही अधिक ऊंचाई तक चढेगा । शुद्ध जल के लिए θ का मान लगभग शून्य होता है और पारा के लिए इसका मान 135° होता है ।

cos 0° = 1, cos 135°=-0.71

अत: पारे के लिए h का मान ऋणात्मक होता है, जो यह बताता है कि पारा केशनली में नीचे गिर जाता है ।

केशिकत्व (Capillarity) क्या होता है ?

What is capillarity in Hindi

  • यह केशनली की वह विशेषता है जिसके कारण द्रव का स्टार या तो ऊपर चढ़ता है या तो नीचे गिरता है|
  • केशनली एक कम त्रिज्या वाली खोखली नली होती है, केश नली में द्रव की ऊँचाई केश नली की त्रिज्या पर निर्भर करती है
  • यदि द्रव में केश नली की दीवार में चिपकने की प्रवृती होती है तो वह ऊपर चढ़ेगा और यदि नहीं तो नीचे गिरेगा |

केशिकत्व के कारण होने वाली कुछ महत्वपूर्ण घटनाएं

Some important events caused by capillarity in Hindi

  • पौधों में जाइलम ऊतक के द्वारा जड़ से विभिन्न भागों में जल का पहुंचना
  • स्याही सोख्ता का कार्य करना
  • लैम्प तथा लालटेन की वर्तिका से मिट्टी के तेल का ऊपर चढ़ना
  • मानसून से ठीक पहले किसानों द्वारा खेतों की जुताई की केश नलियों को तोड़ने के लिए ही की जाती है

केशिकत्व प्रक्रिया का कारण

Cause of capillarity process in Hindi

केशिकत्व प्रक्रिया का कारण केशनली में उपस्थित द्रव की सतह के ऊपर तथा द्रव की सतह के नीचे के दाब मे अंतर के कारण होता है। जैसा की हमने आधिक्य दाब में पढ़ा था कि वक्र पृष्ठ चाहे वह अवतल पृष्ठ हो या उत्तल पृष्ठ के ऊपर ऊपर तथा निचे के दाब में अंतर होता है और इस दाब में अंतर के कारण ही केशिकत्व की घटना घटित होती है।

केशिकत्व के उदाहरण

Examples of capillarity in Hindi

  1. पेड़ो में: क्या अपने कभी सोचा है कि पेड़ों में पानी जड़ों से ऊपर तक तथा हर भाग में कैसे पहुँचता है? इसका उत्तर है केशिकत्व के कारण।
  2. पेड़ों में बहुत ही बारीक केशनलिकाएं होती है जिनसे द्रव केशिकत्व की प्रक्रिया द्वारा ऊपर उठता है और पानी जड से पौधे के ऊपर तक पहुच जाता है।
  3. लालटेन में: आपने देखा होगा की लालटेन या तेल वाले स्टोव में तेल निचे भरा होता है और उसमें बत्ती लगी हुई होती है, इसमें तेल ऊपर कैसे चढ़ता है? यहाँ भी केशिकत्व की प्रक्रिया द्वारा ही तेल बत्ती केशनली की भांति व्यवहार करती है और इससे तेल ऊपर की ओर चढ़ता है।
  4. ब्लॉटिंग पेपर स्याही को शीघ्र सोख लेता है, क्योंकि इसमें बने छोटे-छोटे छिद्र केशनली की तरह कार्य करती हैं,
  5. वर्षा के बाद किसान अपने खेतों की जुताई कर देते हैं, ताकि मिट्टी में बनी केशनलियाँ टूट जाएँ और पानी ऊपर न आ सके व मिट्टी में नमी बनी रहे।

केशिकात्व से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न और उनके उत्तर

Some important questions related to Capillarity and their answers (FAQs)

प्रश्न :- केशिकात्व क्या है

उत्तर :- केशनली में द्रव के ऊपर चढ़ने अथवा नीचे उतरने की घटना को “केशिकात्वकहते हैं। केशनली को जल से भरे बर्तन में रखते हैं तो जल ऊपर की ओर चढ़ता है और पारे से भरे बर्तन में रखते हैं तो पारा नीचे की ओर खिसकता है।

प्रश्न :- केशिकात्व को उदाहरण से समझाये ?

उत्तर :- केशिकत्व का उदाहरण :-

(१) ब्लोटिंग पेपर स्याही को शीघ्र सोख लेता है, क्योंकि इसमें बने छोटे-छोटे छिद्र केशनली की तरह कार्य करती है ।

(२) लालटेन या लैम्प की बत्ती में केशिकत्व के कारण ही तेल ऊपर चढ़ता है ।

(३) पेड़ पौधों की शाखाओं, तनों एवं पत्तियों तक जल और आवश्यक लवण केशिकत्व की क्रिया के द्वारा ही पहुंचते हैं ।

प्रश्न :- केशिकात्व का कारण क्या है?

उत्तर :- केशिकत्व का कारण केशनली में उपस्थित द्रव की सतह के ऊपर तथा द्रव की सतह के नीचे के दाब मे अंतर के कारण होता है।

प्रश्न :- केशिका नली में द्रव क्यों बढ़ता है?

उत्तर :- एक केशिका ट्यूब में एक तरल का उदय सतह तनाव के कारण होता है। इसे केशिका क्रिया के रूप में भी जाना जाता है। सतही तनाव द्रव की सतह पर खींची गई रेखा के लंबवत प्रति इकाई लंबाई पर कार्य करने वाला बल है। साबुन और अपमार्जक जल के पृष्ठ तनाव को कम करते हैं।

तो आपको यह पोस्ट सं केशनली अथवा केशिकात्व क्या है इसकी उदाहरण सहित परिभाषा (Capillarity In Hindi) मे दी गयी जानकारी कैसा लगा कमेंट मे जरूर बताए और इस पोस्ट को लोगो के साथ शेयर भी जरूर करे,

इन पोस्ट को भी पढे :-

Rate this post
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

close button