eClubStudy.Com

नौकरी, शिक्षा, करियर टिप्स, अध्ययन सामग्री, नवीनतम सरकारी नौकरियों, परीक्षा की तैयारी, सरकारी नौकरी परीक्षा, उत्तर कुंजी और अधिक अपडेट के लिए सर्वश्रेष्ठ वेबसाइट

Physics Science पढ़ाई लिखाई महत्वपूर्ण जानकारी शिक्षा

श्यानता क्या है श्यान बल किसे कहते है परिभाषा | What is Viscosity in Hindi

आज के इस पोस्ट के जरिये जानेगे की श्यानता क्या है What is Viscosity in Hindi,  जैसा की घर्षण बल का नाम तो आपने जरूर सुना होगा। और आप जानते होंगे कि घर्षण बल कैसे गति का विरोध करता है। क्या आपको पता है द्रव के अणुओं के बीच में भी घर्षण बल लगता है। जिसे हम श्यानता (Viscosity in Hindi) के नाम से जानते हैं। वैसे यह श्यानता (Viscosity) होता क्या है और यह इतना महत्वपूर्ण क्यों है। तो चलिये अब श्यानता क्या है इसकी परिभाषा, श्यान बल किसे कहते है, Viseous Force In Hindi इसे जानते है।

श्यानता क्या है

What is Viscosity in Hindi

What Is Viscosity In Hindiश्यानता की परिभाषा (Viscosity) – द्रव का वह गुण, जिसके कारण द्रव की विभिन्न परतों के बीच आपेक्षिक गति का विरोध होता है, श्यानता कहलाता है।

श्यानता (Viscosity) आम तौर पर यह देखा जाता है कि सभी वस्तुएँ, चाहे वे गैस, द्रव अथवा ठोस हों, यदि उनका विरूपण (deformation) होता है, अथवा उनके पिंड (body) के विभिन्न हिस्सों में सापेक्ष गति (relative motion) कराई जाती है, तो उनमें अवरोध करने की प्रवृत्ति होती है।

कुछ वस्तुओं में इस प्रवृत्ति की कोटि (degree) ज्यादा होती है और कुछ में कम। जब हम पानी को चिकनी सतह पर गिराते हैं, तो यह देखा जाता है कि पानी तेजी से बहता है, लेकिन यदि हम शीरा (treacle) या ग्लिसरीन की उतनी ही मात्रा उसी प्रकार की चिकनी सतह पर गिराएँ, तो यह सतह पर फैलने में ज्यादा समय लेता है।

शीरे की किस्म की वस्तुओं को, जो फैलने में ज्यादा समय लेती हैं, साधारण लोगों की भाषा में चिपचिपी या श्यान (viscous) कहते हैं, जब कि पानी जैसी वस्तुओं को तरल अथवा गतिशील (mobile) की संज्ञा दी जाती है। इस प्रकार हम यह कह सकते हैं कि शीरा पानी से ज्यादा श्यान है।

दूसरों शब्दों में यह भी कहा जाता है कि स्वरूपपरिवर्तन शीरे में धीरे धीरे होता है, जब कि पानी जैसी वस्तुओं में तेजी से। श्यानता तरलों (fluids) का वह गुण है जिसके कारण तरल उन बल (forces) का विरोध करता है जो उसके स्वरूप को बदलना चाहते हैं।

इस प्रकार हम श्यानता को किसी भी द्रव अथवा गैस के आंतरिक घर्षण (internal friction), के रूप में भी देख सकते हैं। द्रवों तथा गैसों, दोनों में, श्यानता का गुण पाया जाता है, लेकिन द्रव गैसों की अपेक्षा ज्यादा श्यान होते हैं। इसी श्यानता के कारण द्रव की एक परत (layer) दूसरी परत पर होकर आगे बढ़ती है।

श्यान बल किसे कहते है

Viseous Force In Hindi

श्यान बल की परिभाषा (Viseous Force) — किसी द्रव या गैस की एक परत के दूसरी परत पर फिसलने से उनके बीच एक बल लगता है, जो उनकी आपेक्षिक गति का विरोध करता है। यह बल एक ही द्रव या गैस की दो विभिन्न परतों के बीच लगता है, न कि अलग-अलग पदार्थों की सतहों के बीच लगता है। अतः इस बल को आंतरिक घर्षण-बल अथवा श्यान-बल कहते हैं।

किसी द्रव या गैस की दो क्रमागत परतों के बीच उनकी आपेक्षिक गति का विरोध करने वाले घर्षण बल को श्यान-बल कहते हैं।”

श्यान बल F = nA(dv/dx), जहाँ n = श्यानता गुणांक, A = पृष्ठीय क्षेत्रफल, dv/dx वेग-प्रवणता है।

चलिये इसे उदाहरण से समझते है की माना कि द्रव की तीन समानान्तर परतें a, b तथा c हैं। इनमें परत a का वेग सबसे कम है, परत b का उससे अधिक a तथा c का सबसे अधिक है। परत a, परत b के वेग को कम करने का प्रयास करती है तथा परत b, परत c के वेग को कम करना चाहती है। इस प्रकार प्रत्येक परत अपने से ऊपर की परत को पीछे खींचती है। इसी प्रकार, प्रत्येक परत अपने से नीचे की परत को आगे धकेलती है।

स्पष्ट है विभिन्न परतों पर आन्तरिक स्पर्शरखीय बल (Internal Tangential Forces) कार्य करते हैं जो कि उनकी सापेक्ष गति को नष्ट करने का प्रयास करते हैं। इन बलों को ‘श्यान-बल’ (Viscous Force In Hindi) कहते हैं। यदि द्रव के बहाव को गतिशील रखना हो तो श्यान बल को एक बाहरी बल लगाकर कम करना होगा। में द्रव, कुछ समय बाद रुक जायेगा।

जब तरल के दो परतों के बीच की दूरी ‘dy’ हो तथा एक परत दूसरी परत पर फिसलती हो एवं क्रमशः वेग u तथा u + du हो तो श्यानता एवं सापेक्ष वेग के कारण दोनों परतों के बीच अपरूपण प्रतिबल (Shear stress) उत्पन्न होता है। ऊपरी परत के कारण सन्निकट नीचे की परत पर अपरूपण प्रतिबल तथा नीचे की परत के कारण सन्निकट ऊपरी परत पर अपरूपण प्रतिबल (Shear stress) उत्पन्न होता है।

श्यानता गुणांक

Coefficient of Viscosity in Hindi

श्यानता गुणांक उस श्यान बल के बराबर है जो एकांक क्षेत्रफल की दो परतों के बीच तब उत्पन्न होता है, जब उनके बीच वेग-प्रवणता एकांक हो।

मात्रक (Unit) — श्यानता गुणांक का SI पद्धति में मात्रक किलोग्राम/मी/से (kg/m/s) या न्यूटन सेकंडमीटर-(Ns/m^2) होता या पास्कल सेकंड (Pas) हैं।

तो आपको यह पोस्ट श्यानता क्या है What is Viscosity in Hindi की जानकारी कैसा लगा कमेंट मे जरूर बताए और इस पोस्ट को लोगो के साथ शेयर भी जरूर करे…

शेयर करे

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *