ED Kya Hai | ED Kaise Kaam Karta Hai

1

आज हम बात करेंगे ED के बारे में की ED Kya Hai, ED Kya Hota Hai, ED Kaise Bane, ED Banne Ke Kiye Qualication, Eligibility For ED, ED Ki Full Form, ED Ki Salary, Rights Of ED, ED Kaise Kaam Karta Hai, ED Ki Power आज उन सभी के बारे में विस्तार से जानेंगे और हम आपको बहुत ही सरल भाषा में समझाएंगे की ED Kya Kaam Karta Hai.

आपने अक्सर समाचार पत्रों और टीवी चैनलों में देखा होगा कि बड़े-बड़े केस में ED का नाम भी लिया जाता है। यह (ED) भारत सरकार के Finance Ministry के राजस्व विभाग के अधीन एक विशेष Finance Investigation Agency है, जो भारत देश में विदेशी सम्पत्ति मामला, Money Laundering, इनकम से अधिक संपत्ति की पूछताछ और जांच करती है। आज की इस पोस्ट में हम आपको इसी के विषय में बताएंगे कि यह ED Kya Hai.

वैसे मुख्य रूप से ED(Directorate of Enforcement) का काम देश में विदेश से जुड़ी हुई संपत्ति मामले और दूसरी तरह की संपत्ति की जांच करना होता है। ED के अधीन जो भी अधिकारी काम करते हैं, उनका चयन आईएएस, आईपीएस आदि रैंक के आधार पर किया जाता है।

बीते हुए कुछ समय से ED Department अपने काम करने की वजह से मीडिया में अच्छी तरह से छाया हुआ है। वैसे तो ईडी का काम ज्यादातर सिर्फ हाई प्रोफाइल मामलों की जांच करने का होता है ।

जैसे कि हमारे देश के पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के खिलाफ INX Media Case में अपार संपत्ति होने का मामला तथा और भी बहुत से मामले हैं, जो की ED के जांच करने के पश्चात सामने आए हैं।

ED Kya Hai ( What Is ED in Hindi )

ED Kya Hai ED Kaise Kaam Karta Haiयह एक सीक्रेट एजेंसी है, जो हमारे देश में Finance Related अपराधों पर नजर रखती है Money Laundering के मामलों की जांच करती है।

ED की फुल फॉर्म Directorate of Enforcement मतलब की प्रवर्तन निदेशालय।

किसी भी तरह की Economic उथल-पुथल की स्थिति में ED कि यह जिम्मेदारी होती है कि वह सही तरह से उस मामले की जांच करें। आर्थिक रूप से कानून लागू करने की शक्ति भी ED के पास होती है।

ED की स्थापना 1 मई 1956 को भारत सरकार के द्वारा की गई थी। ED के भारत में पांच मुख्य कार्यालय भी है जो कि भारत में मुंबई, चेन्नई, चंडीगढ़, कोलकाता और दिल्ली में स्थित है।

ED Ke Adhikar (Rights of ED in Hindi)

प्रवर्तन निदेशालय को फेरा 1973 और Fema 1999 यह दो Act के तहत भारत सरकार की सभी प्रकार की वित्तीय जांच करने का अधिकार ED को दीया गया है।

इसके अतिरिक्त सरकार ने ED को विदेशी मुद्रा Act के तहत उल्लंघन से निपटने की भी छूट दी है। सरकार द्वारा ईडी को कुछ और अधिकार भी प्राप्त है। जो इस प्रकार से है:-

विदेश में किसी भी तरह की संपत्ति पर कार्यवाही करके रोकथाम करने का अधिकार ईडी के पास होता है।

Money Laundering के आरोप में पाए गए लोगों के खिलाफ जब्ती, गिरफ्तारी और खोज करने का अधिकार भी ईडी को प्राप्त है।

Financial रूप से हमारे देश में गैर कानूनी हो रहे कार्य को लेकर उस पर कार्रवाई करने का अधिकार ED को मिला है।

इन सबका नेतृत्व प्रत्येक कार्यालय का निदेशक करता है। इतनी जानकारी के बाद आगे हम आपको बताएंगे कि Ed Kaise Kaam Karta Hai.

ED Kaise Kam Karta Hai (How does ED work in Hindi)

इसका मुख्य काम Fema के प्रावधानों के संदिग्ध उल्लंघन की जांच करना होता है। इसके अतिरिक्त ED के कई और भी प्रमुख कार्य है जहां Transection से संबंधित मामलों, विदेशी मुद्रा से जुड़े मामलों की जांच पड़ताल करना भी Ed का मुख्य कार्य माना जाता है।

ED के 10 जोनल मुख्यालय है, जिसमें से प्रत्येक में एक Director और 11 Sub Regional कार्यालय है।

निर्यात मूल को ज्यादा आंकना और आयात कीमत को कम आंकना

इस तरह की गतिविधियां यदि किसी भी व्यक्ति के द्वारा की जाती है तो उस व्यक्ति पर ED (Directorate of Enforcement) के द्वारा जांच कार्रवाई जाति है।

हवाला लेन-देन

लेनदेन के पैसों की ठीक ढंग से जांच करना, ED के द्वारा इंक्वायरी करने पर व्यक्ति के लेनदेन की भी जाँच की जाती है।

विदेशों में संपत्ति की खरीद

यदि आप फॉरेन में किसी प्रकार की कोई भी संपत्ति खरीदते हैं, तो ED (Directorate of Enforcement) उस संपत्ति की भी जांच करता है।

ज्यादा मात्रा में विदेशी मुद्रा का कब्जा

यदि किसी भी व्यक्ति ने भारी मात्रा में विदेशी मुद्रा पर कब्जा करके अपने पास रखा है, तो उस विदेशी मुद्रा की जांच भी ED के द्वारा ही की जाती है।

विदेशी मुद्रा का व्यापार

यदि आपने विदेशी मुद्रा बेचने का व्यापार करना शुरू कर दिया है, जिसकी आपको सरकार के द्वारा अनुमति नहीं मिली है, तो उस केस में भी ED जांच करती है।

किसी संपत्ति को जब्त करना

ED के पास Fema उल्लेख के तहत यदि कोई व्यक्ति दोषी पाया जाता है तो दोषी पाए गए लोगों की सभी संपत्ति को एडी के द्वारा ज़ब्त करने का भी अधिकार होता है।

Importance of ED in Hindi

ED की हमारे देश में काफी महत्वता मानी जाती है, क्योंकि ED के Right’s के कारण ही सरकार Financial Law का पूरा भार उन पर सौप देती है, ताकि हमारे देश में सही ढंग से कानूनी कार्रवाई और सभी नियमों का पालन किया जा सके।

ED हमारे देश या विदेश में किसी प्रकार से संपत्ति द्वारा होने वाली धोखाधड़ी से लोगों को बचाता है और दोषियों के ऊपर उचित कार्रवाई करता है। यही कारण है कि भारत सरकार ने Finance Ministry और Revenue Department के तहत Enforcement Directorate को बहुत ही महत्वपूर्ण और ऊंचा स्थान दिया है।

ED Office Kaha Hai | Where Is ED Office In India

यदि हम वह बात करें कि हमारे भारत देश में ED के कार्यालय कहां पर स्थित है तो हम आपको बता दें कि हमारे भारत देश में कोलकाता, गुवाहाटी, जयपुर, चंडीगढ़, दिल्ली, मुंबई, पटना, लखनऊ, जालंधर, श्रीनगर, अहमदाबाद, गोवा, हैदराबाद आदि सभी शहरों में उपलब्ध हैं,

आशा है कि आप को हमारी इस पोस्ट के द्वारा अच्छे से समझ आ गया होगा, कि ED Kya Hai, ED Kya Kam Karta Hai, What Is ED, Importance Of ED, India Me Ed Office Kaha Hai, Rights Of ED, ED Full Form हमने आपको इन सब के बारे में विस्तार से बताया है, यदि अब भी कोई ऐसा प्रश्न है, जिसका जवाब आपको और ना मिला हो, तो वह आप हमसे कमेंट सेक्शन के माध्यम से पूछ सकते हैं।

और भी विभिन्न प्रकार के जानकारी के लिए इन पोस्ट को भी पढे :–

Previous articleDGP Kya Hota Hai DGP Kaise Bane
Next articleअँग्रेजी बोलना कैसे सीखे ( How To Learn To Speak English )

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here