HomeExam PreparationJudge Kaise Bane? Eligibility For Judge In Hindi

Judge Kaise Bane? Eligibility For Judge In Hindi

हम आज आपको बताने वाले हैं कि Judge Kaise Bane? ( How To Become Judge In Hindi ) आप सभी ने न्यायधीश के बारे में सुना ही होगा न्यायधीश का पद बहुत ही बड़ा पद होता है, न्यायाधीश बन्ना कोई आम बात नहीं है यदि बनने के लिए हमें बहुत मेहनत करनी होती है, और न्यायाधीश के पद पर पहुंचते-पहुंचते हमें सालों लग जाते हैं, आज हम आपको बहुत ही सरल भाषा में समझाने वाले हैं कि Judge Kya Hota Hai, Eligibility For Judge In Hindi, Judge Ki Salary Kitni Hoti Hai, Judge Banne Ke Liye Kya Kare.

Judge Kya Hota Hai ( What Is Judge In Hindi )

Judge Kaise Bane Eligibility For Judge In Hindiजज एक ऐसा व्यक्ति होता है जो दोषी के कर्मों के आधार पर न्याय करता है, यदि कोई भी व्यक्ति अन्याय करता है या किसी भी प्रकार का कोई जुर्म करता है, जो कानून की नजरों में अपराध है, तो उस व्यक्ति को न्यायाधीश के समक्ष से प्रस्तुत किया जाता है, फिर न्यायधीश उस व्यक्ति के कर्मों के आधार पर उसको सजा सुनाता है,

न्यायधीश वही व्यक्ति बनता है जो बहुत ही इमानदार हो और अपराधी तथा निर्दोष के बीच में अंतर को समझ सके, जहां न्यायाधीश को निर्धारित करना होता है कि किसी भी निर्दोष को सजा ना मिले, इसीलिए न्यायाधीश का पद बनाया गया है, ताकि अपराधी को दंड मिल सके और निर्दोष व्यक्ति के साथ न्याय हो सके.

भारत में यदि कोई भी व्यक्ति किसी प्रकार का जुर्म करता है तो उस व्यक्ति को पुलिस के द्वारा गिरफ्तार कर लिया जाता है, और फिर उस व्यक्ति को Judge के सामने पेश किया जाता है, फिर उस व्यक्ति के जुर्म को देख कर Judge उस व्यक्ति को सजा सुनाता है, और जज के द्वारा जो फैसला लिया जाता है वह आखरी फैसला होता है, उस फैसले के बाद किसी भी प्रकार का कोई परिवर्तन उस फैसले में नहीं हो सकता, अब आपको अच्छे से समझ आ गया होगा कि Judge Kya Hota Hai ( What Is Judge In Hindi ).

Judge Kaise Bane ( How To Become Judge In Hindi )

हमारे देश में Judge का पद बहुत ही अहम् माना जाता है, क्योकि जज का पद एक ऐसा पद है, जिस पर बैठे व्यक्ति के द्वारा लिये गये गलत निर्णय के आधार पर बेकसूर व्यक्ति को सजा मिल सकती है | जज का पद बहुत ही जिम्मेदारी का पद होता है |

किसी भी न्यायाधीश की नियुक्ति हमारे देश के मुख्य न्यायाधीश और उससे संबंधित राज्य के राज्यपाल की सलाह मशवरा पर राष्ट्रपति के द्वारा की जाती है । देश के सभी उच्चतम न्यायालय में मुख्य Judge को मिलाकर कुल 26 Judge होते हैं ।

यदि कोई भी व्यक्ति जज बनना चाहता है, तो हम आपको बता दें कि सरकार के द्वारा कुछ योग्यता निर्धारित की गई हैं, आपकी योग्यता उसी हिसाब से होनी चाहिए, तभी आप जज बन सकते हैं, चलिए जानते हैं Judge Banne Ke Liye Qualification ( Eligibility For Judge In Hindi )

Eligibility For Judge In Hindi

यदि आप न्यायधीश बनना चाहते हैं, तो हम आपको नीचे कुछ योग्यता ही बता रहे हैं, आपकी योग्यता उस हिसाब से होनी चाहिए:-

  • आपको जज बनने के लिए 12वीं कक्षा के पश्चात Law की डिग्री हासिल कर ली होती है Law करने के पश्चात आपको वकील बनना होता है
  • हम आपको बता दें कि जज बनने से पहले आपको वकील बना होता है और आप को Law मैं PHD करनी होती है जब आप लो में पीएचडी कर ले उसके बाद आप वकील बन जाते हैं और वकील बनकर आपको 10-15Judge Kaise Bane साल कम से कम वकील बंद कर काम करना होता है
  • जब आपको 10 से 15 साल वकील बने हो जाए तो उसके बाद आप जज की परीक्षा के लिए आवेदन दे सकते हैं, जज की नियुक्ति राज्य के राज्यपाल और राष्ट्रपति के द्वारा की जाती है इसीलिए जज बनना बहुत ही कठिन है
  • आपकी उम्र 62 ताल से कम होनी चाहिए और आप भारत के नागरिक होने चाहिए, तभी आप जज के पद के लिए आवेदन दे सकते हैं

Exam Detail For Judge In Hindi

भारत के हर एक राज्य में राज्य लोक सेवा आयोग ( State Service Public Commission ) के द्वारा Judicial Service Exam का आयोजन कराया जाता है, यह परीक्षा हर एक राज्य के अनुसार अलग-अलग तरीके से कराई जा सकती है, इस परीक्षा में 3 चरण होते हैं.

  • प्रारंभिक परीक्षा
  • मुख्य परीक्षा
  • साक्षात्कार

यदि आप इन तीनों चरणों में सक्षम रहते हैं, तो ही आप जज के पद पर नियुक्त हो पाते हैं, यह परीक्षाएं बहुत ही कठिन होती हैं चलिए जानते इन परीक्षाओं के बारे में विस्तार से.

प्रारंभिक परीक्षा

प्रारंभिक परीक्षा में आपकी दो परीक्षाएं होती हैं यह दोनों परीक्षाएं कुछ समय के अंतराल पर होती हैं, पहली परीक्षा में General Knowledge के 150 अंक के प्रश्न पूछे जाते हैं और दूसरी परीक्षा में आप से Law Subject मैं से 300 अंक के प्रश्न पूछे जाते हैं,

और इन सभी प्रश्नों के उत्तर आपको काफी सोच समझकर देने होते हैं, क्योंकि इन परीक्षाओं में नेगेटिव मार्किंग होती है नेगेटिव मार्किंग का मतलब यह है कि यदि आप कोई प्रश्न गलत करते हैं, तो आपके कुछ अंक काट लिए जाते हैं, जो आपको परीक्षा में असफल कर सकते हैं.

मुख्य परीक्षा

यदि आप प्रारंभिक परीक्षा में सफल हो जाते हैं तो मुख्य परीक्षा के लिए आपको बुलाया जाता है और मुख्य परीक्षा मैं आपकी अलग-अलग पांच परीक्षाएं होती हैं, पहली परीक्षा में डेढ़ सौ अंक के जनरल नॉलेज के प्रश्न पूछे जाते हैं,

फिर दूसरी परीक्षा में आप से हिंदी तथा अंग्रेजी सब्जेक्ट के प्रश्न पूछे जाते हैं जो कि 200 अंक के होते हैं, और उनके लिए आपको 3 घंटों का समय दिया जाता है.

फिर तीसरी परीक्षा में आप से Substantive Law के 200 प्रश्न पूछे जाते हैं, जिनका उत्तर देने के लिए आपको 3 घंटे का समय दिया जाता है, चौथी परीक्षा में आप से Procedure And Evidence Law सब्जेक्ट के 200 प्रश्न पूछे जाते हैं जिनका उत्तर देने के लिए आपको 3 घंटों का समय मिलता है.

फिर पांचवी परीक्षा में आप से Penal Revenue and Local Law सब्जेक्ट के 200 प्रश्न पूछे जाते हैं और आपको इनका उत्तर देने के लिए 3 घंटे का समय दिया जाता है.

तो यह बात आपको याद रहे कि इन सभी परीक्षाओं में नेगेटिव मार्किंग होती है ,इसलिए आपको सोच समझकर प्रश्नों के उत्तर देने होते हैं.

साक्षात्कार ( Interview )

यदि आप प्रारंभिक परीक्षा और मुख्य परीक्षा मैं सफल हो जाते हैं तो आप को शत-शत कार्य के लिए बुलाया जाता है, और साक्षात्कार 100 अंको का होता है, यदि आप साक्षात्कार में भी उत्तीर्ण हो जाते हैं आप तो आपको फिर न्यायाधीश की ट्रेनिंग के लिए भेज दिया जाता है, इस प्रकार आप यदि ट्रेनिंग में भी सफल हो जाते हैं, तो आपको जज के पद पर नियुक्त कर दिया जाता है.

Judge Ki Salary

यदि हम बात करें न्यायधीश की कितनी सैलरी होती है तो हम आपको बता देंगे कि शुरुआत में न्यायाधीश की सैलरी ₹70000 से लेकर ₹90000 तक हो सकती है, इसके पश्चात जैसे-जैसे अनुभव बढ़ता रहता है न्यायधीश की सैलरी भी बढ़ती रहती है, यदि न्यायाधीश को काम करते करते 10 साल हो गए हैं तो न्यायधीश की सैलरी ₹250000 तक भी हो सकती है.

हम आपको बता दें कि न्यायाधीश का पद बहुत ही बड़ा पद होता है न्यायधीश को सैलरी के साथ-साथ बहुत ज्यादा इज्जत और सम्मान समाज में दिया जाता है और न्यायधीश को बहुत सारी सुविधाएं दी जाती हैं जैसे कि जज के साथ हमेशा चार पुलिसवाले जज की सुरक्षा के लिए उपस्थित रहते हैं इसके साथ-साथ यदि जज कहीं पर भी जाता है तो पुलिस वाले उसी के साथ उपस्थित रहते हैं.

इसके अतिरिक्त न्यायाधीश को सरकार की तरफ से रहने के लिए घर दिया जाता है, और यदि न्यायधीश को अपने परिवार वालों के साथ कहीं पर घूमने के लिए जाना है, तो भी वह सरकारी गाड़ियों में जाता है और सभी खर्चा सरकार ही उठाती है.

इसके अतिरिक्त यदि न्यायधीश के बच्चे छोटे हैं और वह पढ़ते हैं, तो उनकी पढ़ाई का खर्चा भी सरकार के द्वारा उठाया जाता है, और उनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी भी सरकार की होती है.

आशा है कि आप को अच्छे से समझ आ गया होगा, की Judge Kya Hota Hai, What Is Judge In Hindi, How To Become Judge In Hindi, Judge Kaise Bane, Eligibility For Judge In Hindi आशा है कि आपको यह सब समझ आ गया होगा  यदि आपको कुछ समझ में ना आया हो, तो आप हमसे वह कमेंट सेक्शन के माध्यम से भी पूछ सकते हैं।

और भी विभिन्न प्रकार के जानकारी के लिए इन पोस्ट को भी पढे :– 
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

कैरियर बनाये

परीक्षा की तैयारी

जॉब और कैरियर

Most Popular