सीईओ क्या होता | सीईओ कैसे बने, इसकी सैलरी और तैयारी

आज हम बात करने वाले हैं, की CEO Kaise Bane, CEO Kya Hai, What Is CEO In Hindi, Eligibility Of CEO In Hindi, CEO Ki Salary आज हम इन सब के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे हम आपको यह सब बहुत ही सरल भाषा में समझाएंगे,

यदि कोई भी व्यक्ति कहीं पर नौकरी करता है और जब अपने बॉस को देखता है तो उसका मन भी करता है कि वह भी कभी बॉस बने हो जैसे कि उसका बॉस सबको कार्य करने की अनुमति देता है वह भी एक दिन ऐसे दे आप कहीं पर भी नौकरी करते हैं तो स्वभाविक से बात है अपने ऊपर के पद के व्यक्ति को जब देखते हैं तो आप भी सोचते हैं कि हम भी उस पद पर बैठे हैं

ऐसे ही होता है CEO का पद, सीईओ बनना कोई आम बात नहीं है सीईओ वही व्यक्ति बनता है जिसको कंपनी के बारे में पूरी जानकारी हो जाती है और वह इस काबिल होता है कि कंपनी को चला भी सकता है और कंपनी में अभी कोई भी फैसला लेना हो तो है ले सके इस प्रकार के व्यक्ति को सीईओ के पद के लिए नियुक्त किया जाता है

CEO Kya Hota Hai What Is CEO In Hindi

CEO Kya Hota Hai CEO Kaise Bane How To Become CEO In HindiCEO Ki Full Form होती है “Chief Executive Officer ” अगर हम बात करें की CEO Kya Hota Hai, तो हम आपको बता दें कि हर एक कंपनी में सबसे बड़ा और मुख्य पद का अधिकारी CEO होता है, कंपनी को कैसे चलाना है और कंपनी को किस प्रकार से फायदा हो सकता है, यह सब निर्णय CEO लेता है, हम CEO को कंपनी का मालिक भी कह सकते हैं, कंपनी का हर तरह का फैसला CEO ले सकता है,

CEO कंपनी में काम करने वाले किसी भी अधिकारी को जब चाहे जब निकाल सकता है, और कंपनी का सारा बोझ भार सीईओ के ऊपर ही होता है, यदि कंपनी को किसी भी तरह का कोई नुकसान होता है, तो उसका जिम्मेदार भी CEO ही होता है, चलिए अब यह तो आपको पता लग गया की CEO Kya Hota Hai, अब हम जानते हैं कि CEO Kaise Bane.

CEO Kaise Bane ( How To Become CEO In Hindi )

यदि आप किसी कंपनी में नौकरी कर रहे हैं तो आपके मन में भी कभी ना कभी यह सवाल जरूर आया होगा कि CEO Kaise Bante Hai तो आज हम आपको इसी के बारे में बताने वाले हैं, हम आपको बता दें कि कभी भी आप डायरेक्ट ही सीईओ नहीं बन सकते सीईओ बनने के लिए आपको बहुत ज्यादा कठिन परिश्रम करना होता है,

और सीईओ के पद तक पहुंचने के लिए पढ़ाई ज्यादा मायने नहीं रखती परंतु आपको बहुत ही ज्यादा अनुभव होना चाहिए काम करने का काम करवाने का और आप जिस कंपनी में काम करना चाहते हैं यदि आप उस कंपनी के सीईओ बनना चाहते हैं तो आपको उस कंपनी की हर एक छोटी से छोटी चीज तथा बड़ी से बड़ी चीज सभी के बारे में डिटेल में पता होना चाहिए तभी आप CEO बन सकते हैं.

कभी भी ऐसा नहीं होता कि आप कोई भी अच्छी से अच्छी पढ़ाई कर ले और आपको कंपनी डायरेक्ट ही CEO बना दे, CEO बनने के लिए आपको एक ही कंपनी में 10 से 15 साल काम भी करना पड़ सकता है और यदि आपने कोई अच्छी पढ़ाई की है,

और उस पढ़ाई को करने के बाद आप कंपनी में अच्छे पद से ज्वाइन करते हैं और कंपनी को आप अपने काम करने के तरीके से दिखा देते हैं, कि आप सीईओ बनने के लायक हैं तो भी आप CEO बन सकते हैं.

CEO आप तभी बन सकते हैं जब आपको कंपनी के बारे में सब चीजें पता हों, और यदि कंपनी के मालिक को ऐसा लगता है, कि आपकी वजह से कंपनी को बहुत ज्यादा फायदा हो रहा है और यदि आपके हाथ में मैं कंपनी की सभी भागदौड़ दे देता है, तो वह और भी ज्यादा प्रॉफिट कमा सकता है, तो फिर आपका CEO बनना तय है.

परंतु सीईओ बनने के लिए आपको यह बात निश्चित रूप से ध्यान में रखनी होती है, कि आप कंपनी में सब चीजें ज्यादा से ज्यादा सीखे और हर एक चीज के बारे में पता करने की कोशिश करें, कि कंपनी में क्या चीज कैसे हो रही है, और किस प्रकार हम कंपनी को लाभ पहुंचा सकते हैं यदि आपने यह खूबियां है, तो आप इस पद को आसानी से हासिल कर सकते हैं।.

आप धीरे-धीरे CEO के पद की तरफ बढ़ते हैं यदि सबसे पहले आप कंपनी में Supervisor है तो उसके बाद आप का जब प्रमोशन होगा तो आप प्लांट के DM ( Depart Manager ) बनेंगे, फिर कुछ साल बाद आप मैनेजर बनेंगे फिर उसके पश्चात जब आपका प्रमोशन होता है तो आप Plant Head बनेंगे,

फिर उसके कुछ समय बाद यदि आपको कंपनी के हर एक Plant की अच्छी जानकारी है और आपको अच्छे से पता है कि कंपनी में प्लांट कैसे चलते हैं, तो फिर कुछ समय के पश्चात जब आपका प्रमोशन होता है, तो आपको MD ( Managing Director ) बना दिया जाता है, फिर उसके 4 से 5 साल के बाद आपको CMD ( Chief Managing Director ) बनाया जाता है और फिर उसके पश्चात जब आपका प्रमोशन होता है, तो आप CEO ( Chief Executive Officer ) बन जाते हैं.

CEO Ke Kam ( CEO Work Detail In Hindi )

CEO का मुख्य काम होता है कि वह पूरी कंपनी का संचालन करें और कंपनी में यदि किसी भी प्रकार की कोई दिक्कत आ रही है तो उसका समाधान करें।.

  • कंपनी को प्रॉफिट किस प्रकार से होना है क्या किस प्रकार से हो सकता है और ऐसा क्या करें कि कंपनी को प्रॉफिट हो यह सब सोचने का कार्य है कंपनी के CEO का होता है।
  • किस कर्मचारी की तनख्वाह कब बढ़ानी है और कितनी बढ़ानी है, यह सब CEO के द्वारा सुनिश्चित किया जाता है, कर्मचारी की Work Performance को देख कर।
  • कंपनी को कितना पैसा कहां पर इन्वेस्ट करना है, और किस प्रकार इन्वेस्ट करना है इन सब की देखरेख भी CEO ही करता है, पूरे साल का बजट सीईओ के द्वारा ही बनाया जाता है।
  • कंपनी में जो भी प्रोडक्ट बन रहा है वह सही तरीके से बन रहा है, या नहीं क्वालिटी डिपार्टमेंट प्रोडक्शन डिपार्टमेंट सभी की देखरेख भी CEO करता है।
  • कंपनी में यदि कोई नया प्रोडक्ट लॉन्च हो रहा है, तो वह भी सीईओ की देखरेख में लांच होता है।
  • कंपनी के प्रोडक्ट की मार्केटिंग किस प्रकार से की जानी चाहिए कि कंपनी को ज्यादा फायदा हो, यह निर्णय भी CEO ही लेता है।
  • हर एक दशा में CEO का काम कंपनी को फायदा पहुंचाना होता है, CEO के द्वारा वह हर संभव प्रयास किए जाते हैं, जिसमें कंपनी को फायदा हो।

कंपनी में मार्केटिंग तथा एडवरटाइजिंग इसके अतिरिक्त जितनी भी खर्चे आ रहे हैं उन सब खर्चो की रिपोर्ट फाइनेंस डिपार्टमेंट के पास होती है, और उन्हें वह रिपोर्ट CEO को ही दिखानी होती है उसके पश्चात सीईओ निर्णय करता है कि खर्चे सही प्रकार से हो रहे हैं या नहीं।

CEO Ki Salary ( CEO Salary )

यदि हम बात करेंगे कंपनी में CEO Ki Salary कितनी होती है, तो हम आपको बता दें कि सीईओ की सैलरी कंपनी के ऊपर निर्भर करती है कि कंपनी किस प्रकार की है यदि कोई छोटी कंपनी है तो CEO की सैलरी ₹2 लाख से 3 लाख रुपए महीना भी हो सकती है,

इसके अतिरिक्त यदि कोई बड़ी कंपनी है जैसे कि Google कंपनी के CEO है Sundar Pichai और इनकी 1 महीने की सैलरी है 20 लाख Us Dollar अगर हम इंडिया के हिसाब से देखें तो 14 Crore.

इसीलिए सैलरी हमेशा कंपनी के ऊपर निर्भर करती है कि कंपनी कैसी है, और वह आपको सीईओ बनने पर कितनी सैलरी दे सकती है इंडिया में ज्यादातर छोटी मोटी कंपनियों में यदि आपसी योग बनते हैं, तो आपकी सैलरी 3 Lakh तक हो सकती है.

Difference Between CEO And MD In Hindi

CEO Ki Full Form होती हैं “CHIEF EXECUTIVE OFFICER“, सीईओ कंपनी के मार्गदर्शक होते हैं जो Company की Strategy को तैयार करते है। CEO एक बहुत बड़ी पोस्ट है, और उस Designation पर होने वाले Officer का Main Work है कि वह Business से संबंधित हर एक फ़ैसले को बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स से Approval लेकर कंपनी की अच्छी स्ट्रेटजी को तैयार करते हैं की किस प्रकार से काम होगा।

MD Ki Full Form होती है Managing Director, MD कंपनी के निर्देशक होते हैं. CEO के द्वारा मिले गए हर निर्देश के हिसाब से वह कंपनी के लोगों से काम करवाते हैं और दिन हर एक दिन की सारी रिपोर्ट अपने Head (CEO) को Forward करते हैं,

यदि किसी भी प्रकार का कोई भी फैसला लेना है तो MD उसे नहीं ले सकता उस फैसले को लेने से पहले MD को परमिशन लेनी होती है, CEO से सीईओ की परमिशन के बिना एमबी कुछ भी कर रहे हैं नहीं कर सकता एमडी को क्या कार्य करने हैं, और किस प्रकार करनी है, वह सब निर्देश सीईओ के द्वारा दिए जाते हैं.

MD Ki Salary Salary Of Managing Director

यदि आप यह सोच रहे हैं की MD Ki Salary Kitni Hai, तो हम आपको बता दें कि मैनेजिंग डायरेक्टर की तनख्वाह ₹80000 से लेकर ₹100000 तक हो सकती है, इससे अतिरिक्त MD Ki Salary कंपनी के ऊपर भेज निर्भर करती है कंपनी यदि छोटी है तो सैलरी भी कम होगी और यदि कंपनी बहुत बड़ी है, तो उसी हिसाब से MD सैलरी भी ज्यादा होगी.

आशा है क्या आपको यह पोस्ट CEO Kaise Bane अच्छी लगी होगी, इस पोस्ट के द्वारा हमने आप को यह समझाया है, कि CEO Kya Hota Hai, CEO Ki Salary, CEO Kaise Bane, MD Kya Hota Hai, MD Ki Salary हमने यह सब आपको बहुत ही सरल भाषा में समझाया है, ताकि आप हर एक चीज समझ जाएं और आपके सभी डाउट क्लियर हो जाएं यदि फिर भी आपके मन में कोई प्रश्न है, तो आप हमसे कमेंट सेक्शन में वह पूछ सकते हैं।

और भी विभिन्न प्रकार के जानकारी के लिए इन पोस्ट को भी पढे :– 
4.7/5 - (11 votes)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

close button