D. Pharma Kya Hai – जानिए D. Pharma Course Kaise Kare

0

इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको जानकारी देंगे कि D. Pharma Kya Hai, D. Pharma kaise Kare, D.Pharma Course Karne Ke Liye Yogyata? D.Pharma Course Ki Fees Kitni Hoti Hai? D.Pharma Ki Full Form Kya Hoti Hai? D.Pharma Course Ke Baad Kitni Salary Milti Hai?

D.Pharma Course In Hindi

D. Pharma Kya Hai D. Pharma Course Kaise Kareअगर कोई भी छात्र D Pharma कोर्स करने में इंटरेस्ट रखता है अगर छात्र कम समय में होने वाले कोर्स की तलाश कर रहे है|तो D Pharma  एक ऐसा कोर्स है जो आपको फार्मेसी की फील्ड में एंट्री दिला सकता है| तथा फार्मासिस्ट ( Pharmacist ) बनने के लिए यह मिनिमम  क्वालिफिकेशन होती है | D.Pharma की फुल फॉर्म Diploma In Pharmacy होती है

यह एक करियर ओरिएंटेड प्रोग्राम है जिसमें छात्र फार्मास्यूटिकल साइंस के बेसिक कंसेप्ट को समझते हैं| इस कोर्स को करने के बाद छात्रों में नॉलेज तथा स्किल्स डेवेलोप हो जाती  है |  जो एक फार्मेसी की फील्ड में कर्रिएर बनाने के लिए चाहिए होती है|

D pharma एक ऐसा कोर्स है जिसके जरिए आप अपनी मेडिकल शॉपतथा अपना क्लीनिक भी खोल कर अच्छे पैसे कमा सकते हैं| आज के समय में मेडिकल लाइन की जॉब  बहुत आसानी से मिल जाती है क्योंकि मेडिकल लाइन में कोर्स के बहुत ज्यादा स्कोप है| बेसिक्ली फार्मेसी दवाई बनाने का कार्य करती है | फार्मेसी हेल्थ सेक्टर का ही पार्ट होता है|

D.Pharma Kya Hai – What Is D.Pharma Course In Hindi

D. Pharma एक ऐसा कोर्स होता है जिसमें आपको दवाइयों से संबंधित जानकारियां दी जाती है| तथा दवाइयों को कैसे बनाया जाता है |और दवाइयों का इस्तेमाल कैसे किया जाता है |तथा दवाइयों को स्टोर करके कैसे रखा जाता है|इन सब की जानकारी छात्र को दी जाती है|  इसके अलावा छात्रों को डी फार्मा से रिलेटेड सॉफ्टवेयर की जानकारी भी दी जाती है|  इस कोर्स के अंतर्गत आपको दवाई बनाने से लेकर दवाई बेचने तक के बारे में  ट्रेनिंग दी जाती हैं| डी फार्मा कोर्स का मुख्य उद्देश्य मरीजों को कम से कम खर्च में दवाई प्रदान करने से है |

इस course में छात्र सॉफ्टवेयर, compounding technique, सूचि  नियंत्रण,  दुर्लभ संसाधनों का वितरण,  दवा की खोज करना, गोपनीय रिकॉर्ड,  रखरखाव,  प्रभावी रूप से लिखित और मौखिक संचार आदि की जानकारी दी जाती है| इस कोर्स  के अंतर्गत Pharmaceutics, biochemistry, Physiology, Health education, Community pharmacy  आदि की जानकारी भी छात्रों को दी जाती है|

D. Pharma Course Ke Fayde – Benefits Of D.Pharma Course In Hindi

 जैसा कि आप सब लोग जानते हैं कि डी फार्मा कोर्स को करने के बहुत से फायदे होते हैं| डी फार्मा कोर्स करने के बाद आप भारत में ही नहीं बल्कि विदेश में भी जॉब पा सकते हैं|

यह कोर्स करने के बाद नौकरी की ज्यादा संभावना होती है| अगर आप बारहवीं कक्षा के बाद नौकरी करना चाहते हैं| तो आपको आसानी से नौकरी मिल सकती हैं|

डी फॉर्म करने के बाद आप खुद का मेडिकल तथा क्लिनिक भी खोल सकते हैं तथा आप दवाइयों भी बेच सकते हैं। क्योंकि डी फार्मा कोर्स करने के पश्चात आपको दवाइयों के बारे में अच्छी जानकारी हासिल हो जाती है, जिसके पश्चात आपको अपना खुद की मेडिकल शॉप खोलने का लाइसेंस भी आपको मिल जाता है।

डी फार्मा कोर्स करने से आप कम समय में ही दवाइयों के अच्छे जानकार हो जाते हैं जिसके पश्चात आप किसी हॉस्पिटल में भी आसानी से नौकरी कर सकते हैं।

डी फार्मा कोर्स करने के बाद आप किसी भी सरकारी हॉस्पिटल में आपको नौकरी मिल सकती हैं| परंतु इसके लिए आपको काफी मेहनत करनी होती है क्योंकि सरकारी हॉस्पिटल में नौकरी लगना इतनी आसान बात नहीं है, इसके लिए पहले आपको एंट्रेंस एग्जाम भी पास करना होता है और उसके साथ साथ अच्छा अनुभव भी लेना होता है।

D.Pharma Course Ke Liye Yogyata – Eligibility Criteria for D. Pharma course In Hindi

D. Pharma कोर्स को करने के लिए आपके लिए बेहद जरूरी है कि किसी भी मान्यता प्राप्त इंस्टिट्यूट से 12वीं कक्षा पास करनी होगी तथा 12वीं कक्षा में आपके पास फिजिक्स केमिस्ट्री, मैथमेटिक्स सब्जेक्ट अवश्य होने  चाहिए|

डी फार्मा कोर्स में एडमिशन लेने के लिए आपको 50% मार्क्स के साथ 12th कक्षा पास करनी होगी| इसके अलावा SC/ST के छात्र को परसेंटेज में राहत मिल जाती है उनके लिए 12वीं कक्षा में 45% होने चाहिए |

डी फार्मा कोर्स को करने के लिए आप किसी भी सरकारी तथा प्राइवेट कॉलेज में एडमिशन ले सकते हैं| अगर आप डी फार्मा करना चाहते हैं तो आपको 12वीं कक्षा में PCM तथा PCB के साथ ही पास करे |

डी फार्मा कोर्स करने के लिए आपके पास दो विकल्प होते हैं, आप सरकारी कॉलेज तथा प्राइवेट कॉलेज इन दोनों से ही इस कोर्स को कर सकते हैं यदि आप प्राइवेट कॉलेज से इस कोर्स को करना चाहते हैं, तो वहां पर तो आप डायरेक्ट एडमिशन ले सकते हैं, जिसके लिए आपको कोई भी एंट्रेंस एग्जाम नहीं देना होता और यदि आप सरकारी कॉलेज से Pharma Course करना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको एंट्रेंस एग्जाम पास करना होता है, जो कि काफी कठिन होता है परंतु इस एंट्रेंस एग्जाम को पास करने के पश्चात ही आप सरकारी कॉलेज से इस कोर्स को कर सकेंगे।

D pharma course duration

 डी फार्मा कोर्स 2 साल का कोर्स होता है जो 4 सेमेस्टर में डिवाइड होता है| इन चारो सेमेस्टर पास करने के बाद डी फार्मा कोर्स कंप्लीट हो जाता है| आपको डी फार्मा की डिग्री मिल जाती हैं|

College List for D Pharma Course

 डी फार्मा कोर्स करने के लिए बहुत से सरकारी तथा प्राइवेट कॉलेज है जो डी फार्मा कोर्स को ऑफर करते हैं|

1) Himalyan university of pharmacy & Research

2) Chandigarh college of pharmacy

3) Swami devi dayal college of Pharmacy, haryana

4) Sri guru gobind singh college of Pharmacy, chandigarh

5) L. R Institute of pharmacy,Solan

6) Swami vivekanand college of pharmacy,punjab

7) Chitkara college of pharmacy, Punjab

8) Bharat institute of Pharmacy, roorkee

9) Saharanpur pharmacy college

10) Dev Bhoomi institute of pharmacy and research,uttarakhand

11) Guru gobind singh college of pharmacy, yamuna nagar

12) Babu banarsi Daas university, Lucknow

13) Jamiya humdard Institute delhi

14) K.R manglam University, gurgaon

15) NIMS university, jaipur

16) BK modi government Pharmacy college,surat

17) Bihar college of pharmacy, Patna

18)Bhupal nobals institute of Pharmaceuticals Science, udaipur

Selection process  OF Goverment Collage

 डी फार्मा कोर्स करने के लिए छात्र को कई तरह के एग्जाम देने पड़ते हैं| सभी कॉलेज में एडमिशन के लिए अलग अलग एग्जाम लिए जाते हैं |  कुछ इंस्टिट्यूट में एडमिशन मेरिट लिस्ट के आधार पर होते हैं तथा कई कॉलेजों में एडमिशन 12th कक्षा के स्कोर पर निर्भर होते हैं|

Government college  मे ऐडमिशन लेने के लिए निम्न प्रकार के एंट्रेंस एग्जाम होते हैं :-

1) UPSEE

2) GPAT

3) JEE PHARMACY

4) AU AIMEE

5) PAMET

6) CPAMT

D.Pharma Syllabus In Hindi 

First year Syllabus

Pharmaceuticals

1) Introduction to different Dosage forms

2) Metrology

3) Packaging of Pharmaceuticals

4) size separation by shifting

5)Clarification and filtration

6) Antioxidants

7) Gastrointestinal Agents

8) Topical agents

9) Dental products

Pharmaceutical Chemistry 1

1) Definition history and scope

2) Pharmaceutical aids

3) Various system of Classification Of drugs and Natural origin

4) Adulteration And drug Evaluation

Biochemistry Clinical Pathology

1) Introduction to Biochemistry

2) Carbohydrates

3) Lipids

4) Vitamins

5) Enzymes

6) TheraPeutics

Human anatomy Physiology

1) Scope of Anatomy And physiology

2) Elementry Tissue

3) CardiovasCular Systems

4) Respiratory systems

5) Muscular Systems

Health Education Community pharmacy

1) Concept of health

2) Nutrition and health

3) Fundamental Principles of microbiology

4) Communicable Deseases

Second Year Syallabus

Pharmaceuticals 2

1) Reading and understanding Prescription

2) Study of various type of Incompatibilities

3) Posology

4) Dispensed Medications

5) Types of powders

6) Lipids and dosage Forms

Pharmaceuticals Chemistry 2

1) Introduction to Nomenclature Of organic chemistry systems

2) Antiseptic and Disinfectants

3) AntileProtic drugs

4) Antibiotics

5) Hypnotics

Pharmacology and Toxicology

1) Introduction to pharmacology

2) Scope of pharmacology

3) Drugs – Advantage and

 disadvantage

4) General mechanism of drug action

Pharmaceuticals jurisprudence

1) Origin and nature of pharmaceuticals

2) Principle and significance of professional Ethics

3) Pharmacy Act 1948

4) The drugs and magic remedies

Drug store Business Development

1) Introduction

2) drug house management

3) Sales

4) Recruitment and training

5) Banking and finance

6) Accounting introduction

Hospital clinical pharmacy

1) Definition, function and classification of hospitals

2) Hospital pharmacy

3) The drug distribution System in hospital

4) Manufacturing

5) Drug information system

6)Introduction to clinical Pharmacy

D. Pharma Course Ki Fees Kitni Hoti Hai – Fees Structure Of D.Pharma Course In Hindi

यदि हम बात करें डी फार्मा कोर्स की फीस के बारे में तो हम आपको बता दें, कि फीस हमेशा हर एक कॉलेज के हिसाब से अलग-अलग होती है आप कोई भी कोर्स अगर करते हैं तो सभी की फीस अलग-अलग कॉलेज के हिसाब से अलग-अलग होती है, परंतु डी फार्मा कोर्स को करने के लिए भी आपके पास दो विकल्प होते हैं, जैसे कि एक तो सरकारी कॉलेज और एक प्राइवेट कॉलेज, यदि आप प्राइवेट कॉलेज से डी फार्मा कोर्स करते हैं, तो आप मान कर चलिए कि कम से कम ₹40000 से लेकर ₹100000 तक Pharma Course Ki Fees 1 साल की हो सकती है, इसके अतिरिक्त यदि आप ज्यादा बड़े कॉलेज से यह कोर्स करते हैं तो फीस इससे ज्यादा भी हो सकती है।

और अगर हम बात करें सरकारी कॉलेज की तो सरकारी कॉलेज की फीस काफी कम होती है, ताकि गरीब से गरीब बच्चा भी इस कोर्स की फीस देकर अपनी पढ़ाई पूरी कर सके, फिर भी आप मान कर चलिए यदि सरकारी कॉलेज से आप बी फार्मा कोर्स करते हैं, तो आपको ₹12000 से लेकर ₹20000 तक 1 साल की फीस देनी पड़ सकती है परंतु एक बात हम आपको बता दें, कि यदि छात्र पढ़ने में अच्छा होता है और उसने अपनी पिछली पढ़ाई में भी अच्छे अंक प्राप्त किए हुए हैं, तो इस प्रकार के छात्रों को कॉलेज की तरफ से छात्रवृत्ति भी प्रदान की जाती है, ताकि उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके।

Job Option After D.Pharma Course In Hindi

 डी फार्मा कोर्स को करने के बाद आप किसी भी सरकारी या प्राइवेट कंपनी में जॉब के लिए अप्लाई कर सकते हैं |तथा अपना क्लीनिक भी खोल सकते हैं|

Private job description

1) Medical transcription (  मेडिकल ट्रांसक्रिप्शन)

2) Scientific Officer (  साइंटिफक  ऑफिसर)

3) Technical supervisor (  टेक्निकल सुपरवाइजर)

4) Chemist or druggist

5) Quality annalist (  क्वालिटी एनालिस्ट)

6) Medical representative ( मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव)

Government jobs for D. Pharma

1) Indian drugs and pharmaceuticals Ltd

2) Project and Development India ltd U

3) Indian Medician and Pharmaceutical Corporation

4) Rajasthan drugs and Pharmaceutical Ltd

5) Bangal chemical and Pharmaceutical ltd

6) Hindustan antibiotic Ltd

7) Odissa drugs and Chemical ltd

8) Hindustan florocarbon ltd

D.Pharma Course Ke Baad Kitni Salary Mil Sakti Hai – Salary Structure After D.Pharma Course In Hindi

डी फार्मा कोर्स को करने के बाद सैलरी बहुत सी चीजों पर निर्भर करती है, जैसे कम्युनिकेशन स्किलस और आपके एक्सपीरियंस पर, जितना आपको काम करने का एक्सपीरियंस होगा उतनी ही आपकी सैलरी भी बढ़ेगी|अगर आप किसी अस्पताल में As a fresher नौकरी करते हैं तो 20000 से 30000 तक आप को सैलरी मिल सकती है।

इसके अतिरिक्त यदि आप यह कोर्स करने के पश्चात अपना खुद का मेडिकल खोलते हैं, तो आप कुछ ही दिनों के पश्चात 50000 से ₹60000 महीना भी बड़ी आराम से कमा सकते हैं, परंतु मेडिकल खोलने के लिए भी आपको अनुभव होना बहुत जरूरी है, इसीलिए आपको कुछ दिन तो नौकरी करनी ही पड़ती है।

Conclusion

 जैसा कि ऊपर इस ब्लॉग में हमने आपको डी फार्मा के बारे में पूरी जानकारी दी है कि D.Pharma Kya Hota Hai और D.Pharma Course Kaise Kare तथा D.Pharma Course Ke Liye Eligibility In Hindi और इसके साथ साथ हमने आपको D.Pharma Course Ke Fayde भी बताए हैं ताकि आप इस कोर्स को करके अपना बेहतर भविष्य बना सकें यदि अब भी इस पोस्ट से संबंधित कोई प्रश्न आपको पूछना है तो आप कमेंट सेक्शन में कमेंट कर सकते हैं।

For D.Pharma Entrance Exam Preparation Book –

इनके बारे मे भी पढे :-

Previous articleB.Ed Special Education Course Kya Hai – जानिए B.Ed Special Education Kaise Kare
Next articleB. Pharma क्या है – जानिए B. Pharma Course कोर्स कैसे करे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here